उबर कार और ड्राईवर के लिये योग्यता - भारत 2017

उबर कैब आज शहर में एक जाना-पहचाना नाम है। घर गृहस्थी का काम हो या फिर शादी-पार्टी या ऑफिस का, उबर एैप से कैब बुक कराई और बस कुछ ही मिनटों में कैब आपके दरवाजे पर खड़ी मिलती है। अगर आप भी उबर कैब से एक चालक (Driver) के रूप में जुड़ना चाहते हैं तो आपको कुछ औपचारिकताओं को पूरा करना होगा, जिसकी जानकारी हम आपको उपलब्ध करवा रहे हैं। यदि आप सभी आवश्यकताओं की पूर्ति करते हैं तो आप बड़ी आसानी से उबर के चालक बन सकते हैं।

उबर ड्राईवर बनने के लिए योग्यता:

1.    आयुः उबर ड्राईवर बनने की सबसे पहली पात्रता यह है कि व्यक्ति की आयु 21 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए।
2.    अनुभवः उबर ड्राईवर बनने के लिए आपके पास कम से कम 3 वर्ष का कार चलाने का अनुभव होना चाहिये।
3.    लाईसेन्सः आपके पास वैध कॅमर्शियल ड्राईविंग लाईसेन्स होना चाहिये। यदि आपने हाल ही में एक राज्य से दूसरे राज्य में शिफ्ट किया है तो भी अपने बाह्य राज्य के ड्राईविंग लाईसेन्स को सम्भाल कर रखें। आपको इसकी जरूरत पड़ सकती है।
4.    बीमाः जिस राज्य में आप निवास कर रहे हैं उसी राज्य का आपकी कार का इंश्योरन्स आपके स्वयं के नाम पर होना चाहिये।
5.    रजिस्ट्रेशनः आपकी कार अच्छी स्थिति में होनी चाहिए, जिसमें ड्राईवर के अतिरिक्त चार लोगों के बैठने की क्षमता हो। कार उसी राज्य में पंजीकृत होनी चाहिये, जहाँ आप उबर को सेवाएँ देना चाहते हैं।
6.    पुलिस वैरीफिकेशन सर्टिफिकेटः उबर चालक बनने से पूर्व आपको पुलिस जाँच का प्रमाण पत्र देना होगा।
7.    स्मार्ट फोनः यदि आप एक स्मार्ट फोन रखते हैं तो आपको कम्पनी के एैप को समझने में ज्यादा परेशानी नहीं होगी। वैसे कम्पनी द्वारा भी उबर कैब से जुड़ने वाले सभी चालकों को डिवाइस सम्बन्धी विधिवत प्रशिक्षण दिया जाता है।
8.    रैफरेन्सः आपके पास समाज के कुछ प्रतिष्ठित व्यक्तियों की जानकारी होनी चाहिये जिनसे कम्पनी आपके सामाजिक पृष्ठभूमि की जानकारी प्राप्त कर सके।

पृष्ठभूमि की जाँचः  कम्पनी द्वारा आपकी ड्राईविंग पृष्ठभूमि की जाँच की जायेगी कि पिछले कार्य के दौरान आपने अपनी ड्राईविंग में किसी प्रकार की कोई गलतियाँ तो नहीं की हैं। किसी प्रकार की कोई खामी पाई जाने पर आपको अयोग्य घोषित किया जा सकता है। पृष्ठभूमि जाँच कार्य में कुछ दिनों का समय लगता है। ड्राईविंग पृष्ठभूमि जाँच में निम्नलिखित बातों की सन्तुष्टि की जाती है कि आप पिछले 7 वर्षों में:

  • ड्रग्स या नशे से सम्बन्धित अपराध में लिप्त तो नहीं पाए गए हैं।
  • बिना ड्राईविंग लाईसेन्स या इन्श्योरेन्स के कारण कोई घटनाक्रम तो घटित नहीं हुआ।
  • आपके द्वारा कोई दुर्घटना तो कारित नहीं हुई।
  • आपके विरूद्ध लापरवाहीपूर्वक गाड़ी चलाने का कोई पुराना रिकॉर्ड तो नहीं है।
  • किसी प्रकार की कोई आपराधिक पृष्ठभूमि से तो आपका सम्बन्ध नहीं है।

उबर के साथ ड्राईवर के रूप में जुड़ने की प्रक्रिया:

उबर कैब ड्राईवर आप कम्पनी की साईट पर दी गई जानकारी को चरणबद्ध तरीके से अनुसरण कर बहुत ही आसानी से स्वयं को उबर के साथ जोड़ सकते हैं। अनुसरण किये जाने वाले चरण निम्न प्रकार हैं:-

चरण-1: सबसे पहले कम्पनी वैबसाईट पर दिये गये ऑनलाइन आवेदन पत्र को भरें।
चरण-2: अपनी कार का उबर निरीक्षण स्थल पर मुआयना करवाएँ।
चरण-3: व्यक्ति की ड्राईविंग पृष्ठभूमि जाँच क्लियरेन्स का इन्तजार करें।
चरण-4: उबर कैब चालक के रूप में वाहन का संचालन करें।

वाहन पंजीकरण हेतु आवश्यक दस्तावेज:

1.    वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट
2.    वाहन के इन्श्योरन्स सम्बन्धी दस्तावेज
3.    गाड़ी का फिटनैस प्रमाण पत्र
4.    कार का परमिट
5.    लीज एग्रीमेन्ट (आवश्यकतानुसार लागू होने पर)

व्यक्तिगत दस्तावेज:

1.    कॅमर्शियल ड्राईविंग लाईसेन्स की प्रति
2.    पुलिस जाँच प्रमाण-पत्र
3.    फोटो पहचान-पत्र की प्रति
4.    एक निरस्त किया हुआ चैक या बैंक पास बुक की प्रति

उबर कैब के साथ जुड़ने के प्रकार:

आप उबर कैब के साथ तीन प्रकार से जुड़ सकते हैं:

ड्राईवर-कम-मालिक: इस श्रेणी में कार का मालिक स्वयं ड्राईवर होता है, जिसके लिए न्यूनतम योग्यता इस प्रकार है:

  • ड्राईविंग लाईसेन्स
  • वाहन का पंजीकृत प्रमाण-पत्र
  • वाहन का इन्श्योरेन्स
  • परमिट

ड्राईवर-कम-पार्टनर: इस श्रेणी में ड्राईवर स्वयं वाहन का मालिक नहीं होता है, लेकिन ड्राईवर के पास वैध लाईसेन्स होना आवश्यक है।

नॉन-ड्राईविंग पार्टनर: नॉन-ड्राईविंग पार्टनर वह व्यक्ति है जो उबर कैब नहीं चला रहा है लेकिन अपने वाहन को किसी एक उबर ड्राईवर के माध्यम से संचालित कर रहा है। इस श्रेणी में पंजीकृत के लिए उन्हीं सभी दस्तावेजों की आवश्यकता होती है जो कि ड्राईवर-कम-मालिक श्रेणी के वाहन के लिए आवश्यक हैं। जैसे-

  •     ड्राईविंग लाईसेन्स
  •     वाहन का पंजीकृत प्रमाण-पत्र
  •    वाहन का इन्श्योरेन्स
  •   परमिट

उबर कैब की श्रेणियाँ:

उबर कम्पनी ने यात्रियों की सुविधा के लिए वाहन की दो प्रकार की श्रेणियाँ निर्धारित की हैं:

1.    उबर गो
2.    उबर एक्स

उबर गो की श्रेणी में रखे जाने वाला वाहन चार दरवाजों वाला अच्छी स्थिति में होना चाहिए, जिसके अन्दर का इन्टीरियर भी साफ-सुथरा हो। वाहन में कार चालक के अतिरिक्त चार यात्री आरामपूर्वक बैठ सकें और जिसमें उपयुक्त खिड़कियाँ व एयर कंडीशनर भी लगा होना चाहिए। फोर्ड-फीगो, हुण्डई-ईओन, मारूति-रिट्ज, वैगन-आर इस श्रेणी के अन्तर्गत आने वाली कारें हैं।

    उबर एक्स की श्रेणी में रखे जाने वाले वाहन की आधारभूत पात्रता उबर गो के समान ही है, लेकिन वाहन के मॉडल उच्च श्रेणी के होते हैं, जिनमें होण्डा-अमेज, हुण्डई-एसेन्ट, मारूति-स्विफ्ट डिजायर, टाटा-इण्डिको आदि प्रमुख हैं।

 आय:

उबर कैब वाहन के संचालन को तय संख्या की राईड्स के अनुसार वर्गीकृत करता है। यात्रियों से मिलने वाला किराया ड्राईवर स्वयं रखता है। इसके अतिरिक्त कम्पनी द्वारा बोनस राशि भी प्रदान की जाती है। पेटीएम, डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड से किया जाने वाला भुगतान सीधे तौर पर कम्पनी खाते में जाता है। उसका भुगतान ड्राईवर को साप्ताहिक रूप से किया जाता है, जिसमें यात्रियों से मिलने वाले किराये को समायोजित करते हुए शेष राशि ड्राईवर के खाते में जमा करा दी जाती है। इस प्रकार वाहन के पेट्रोल/डीजल, डाटा कार्ड, कार की मासिक किश्त और ड्राईवर का वेतन खर्च निकालने के उपरान्त जो राशि बचती है वही राशि एक चालक की प्रतिदिन की आय होती है। 

 

क्या यह लेख उपयोगी था?
0 में से 0 के लिए उपयोगी रहा

टिप्पणियां

0 टिप्पणियां

कृपया टिप्पणी करने के लिए साइन इन करें करें.